यह मंच है विज्ञान का, यहाँ होगा विज्ञान का संवाद और संचार ब्लॉग के जरिये और होगीं विज्ञान और टेक्नोलॉजी की बातें, जन जन के लिए, आम और खास के लिए भी! आप सभी का स्वागत है!
जुड़ने के लिए संपर्क करे +91 9838659380 (सलीम ख़ान)
News Update :
Home » » चांद और सूरज देखकर मुझको जाने क्यों शर्माते हैं: हरेन्द्र रावत, दिल्ली

चांद और सूरज देखकर मुझको जाने क्यों शर्माते हैं: हरेन्द्र रावत, दिल्ली


चांद और सूरज देखकर मुझको जाने क्यों शर्माते हैं
खड़ा देखकर सामने मुझको बादल में छुप जाते हैं
कुदरत का हर रंग बदलता, लाल गुलाबी पीला होता
हरियाली खेतों की बदलकर नीला या मटमैला होता
ऊंची गरदन वाले पेड़ भी क्यों नीचे झुक जाते हैं
चांद और सूरज देखकर मुझको जाने क्यों शर्माते हैं
ऊंची-ऊंची पर्वत चोटी पहने धोती कुर्ता टोपी
पानी की मछली भी कहती काश मैं धरती पर होती
इन गुलशन के फूलों में भंवरे क्यों छिप जाते हैं
चांद और सूरज देखकर मुझको जाने क्यों शर्माते हैं
मुझे देखकर नदी भी अपनी राह बदलती है
सन सन करके कान में मेरे हवा भी कुछ कहती है
झरने पर्वत से गिरते हैं क्यों स्वर बदलते हैं
चांद और सूरज देखकर मुझको जाने क्यों शर्माते हैं
मेरा तो जलवा ऐसा है पत्थर भी फट जाते हैं
लोभ और क्रोध के बस में दोस्त को दोस्त मरवाते हैं
बाप से बेटा झगड़ा करता, पति पत्नी से लड़ता है
गद्दी जल्दी छोड़ दे बूढ़े, चेला गुरु से कहता है
काले-काले बादल भी यहां बरस नहीं पाते हैं
चांद और सूरज देखकर मुझको जाने क्यों शर्माते हैं
-हरेन्द्र रावत, दिल्ली-
Share this article :

+ comments + 3 comments

17 सितंबर 2010 को 1:49 pm

सुन्दर अभिव्यक्ति

बेनामी
11 अप्रैल 2011 को 11:57 am

bahut acchai kavita hai

sharda
11 अप्रैल 2011 को 11:58 am

good poem

एक टिप्पणी भेजें

 
Design Template by panjz-online | Support by creating website | Powered by Blogger